jump to navigation

August 13, 2009

Posted by aglakadam in career guidance and counselling.
add a comment

१३ -०८ -०९
इसके साथ अपने काम के प्रोफेशनल कोर्सेस से सम्बंधित जानकारिया एकत्रित करते रहिये ,मसलन वो संसथान कंहा है ?कोर्स मैं टाइम कितना लगेगा ?वो कोर्स मान्यता प्राप्त है या नहीं?करियर के निर्माण मैं सामाजिक आर्थिक तथा फॅमिली की मह्तवपूर्ण भूमिका होती है .इसलिये अपनी फॅमिली की आर्थिक पोसिशन को देखते हुए अपने लिए कोर्स का सेलेक्शन करे .ऐसा न हो की आपके पसंदीदा कोर्स की फीस इतनी ज्यादा हो की ,आपकी फॅमिली उसे वहन ही न कर सके और आप डिप्रेशन मैं आ जांए |.
इंजिनियर ,डॉक्टर,बनना और बनने के लिए कोशिश करना बहुत अच्छी बात है,लेकिन आज जमाना बदल गया है |.किसी ज़माने मैं आर्ट्स के छात्रो को विज्ञान से कम आँका जाता था,लेकिन आर्ट्स लेकर भी आप अपने करियर को अगला कदम दे सकते है,इस बारे मैं कल बाते करते है —–वर्षा वरवँड़कर,अगला कदम . कॉम

Advertisements

August 11, 2009

Posted by aglakadam in career guidance and counselling.
add a comment

१०-०८-०९
कैरियर के चुनाव का मामला चांस पर नहीं अपितु choice पर आधारित होना चाहिए .करियर चुनने के कई तरीके हो सकते है —
१.मसलन आप वह करे ,जो आपके परिवार मैं होते आया है.
२.या आपके दोस्त या मित्र कर रहे है .
३.अथवा वह करियर चुना जाये ,जो आपकी रूचि, मूल्य ,अभिक्षमता से मेल खाता हो !
इन बातो को ध्यान मैं रखिये ——
१ .अपनी रुचियों की सूची बनाये
२ .अपने मूल्यों की सूची बनाइए
३ .अपने पसंदीदा कैरियर से जुड़े व्यक्तियों से बात कीजिये ..
तो बस आज से ही अपने कैरियर को दिशा देने की कोशिश करिए —-वर्षा वरवँड़कर

बहुत दिनों से मन मैं एक विचार था एक अपना ऐसा ब्लॉग हो जो हिंदी भाषी छात्रो को करियर की जानकारी दे. अगला कदम ने इच्छा पूरी कर दी.आखिर ये करियर है क्या ?करियर एक जगती आँखों का सपना है,करियर एक चाहत जो सुन ली जाती है ,आसमान को हांथो मैं समेट लेने की चाहत —कुछ कर दिखने को उतावला मन, —दिल चाहता है जमाने से आगे जाना— लेकिन जमाना हमसे कई बार आगे निकल जाता है ,मायूस न हो ,सपने सहेजे है तो पूरा करने का हौसला भी रखिये .बहुत विशाल होता है ख्वाहिशो का आंसमा —-और उतना ही मुश्किल होता है हर ख्वाहिश को साकार कर पाना.लेकिन जब कुछ हासिल करने का जज्बा दिल मैं हो तो राहें आसां हो जाती है,और मंजिल करीब हो जाती है .सुफल मनोरथ होई तुम्हारे ,बस आज इतना ही .—-वर्षा August 8, 2009

Posted by aglakadam in career guidance and counselling.
add a comment

 बहुत दिनों से मन मैं एक विचार था एक अपना ऐसा ब्लॉग हो जो हिंदी भाषी छात्रो को करियर की जानकारी दे. अगला कदम ने इच्छा पूरी कर दी.आखिर ये करियर है क्या ?करियर एक जगती आँखों का  सपना  है,करियर एक चाहत जो सुन ली जाती है ,आसमान को हांथो  मैं समेट लेने की चाहत   —कुछ कर दिखने को उतावला मन, —दिल चाहता है जमाने से आगे  जाना—   लेकिन जमाना हमसे कई बार आगे निकल जाता है ,मायूस न हो ,सपने सहेजे है तो पूरा करने का हौसला भी रखिये .बहुत विशाल होता है ख्वाहिशो का आंसमा —-और उतना ही मुश्किल होता है हर ख्वाहिश को साकार कर पाना.लेकिन जब कुछ हासिल करने का जज्बा दिल मैं हो तो राहें आसां हो जाती है,और मंजिल करीब हो जाती है .सुफल मनोरथ होई तुम्हारे ,बस आज इतना ही .—-वर्षा