jump to navigation

सुबह का नाश्ता बढ़ाए याददाश्त January 7, 2010

Posted by aglakadam in parenting.
Tags: , ,
trackback

07-01-2010
यदि आप चाहते हैं कि आपका बच्चा स्कूल में पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन करे तो उसे रोजाना सुबह नाश्ता देना न भूलें। हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय पोषण संस्थान द्वारा किए गए अध्ययन में यह बात सामने आई है।

अध्ययन के अनुसार नाश्ता न करने वाले या अनियमित रूप से नाश्ता करने वाले बच्चों की तुलना में नियमित रूप से नाश्ता करने वाले बच्चे पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन करते हैं। साथ ही उनकी याददाश्त और ध्यान व एकाग्रता भी अच्छी होती है।

‘इंडियन पिडियाट्रिक्स’ जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन में कहा गया है कि सुबह नाश्ता करने की बजाय दिन में खाना खाने वाले बच्चों में रोजाना के पोषक तत्वों की जरूरत भले ही पूरी हो जाती हो, लेकिन सुबह भूख के कारण वे शिक्षक के लेक्चरों पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते।

शोधकर्ताओं का कहना है कि नाश्ता करने से मस्तिष्क को ऊर्जा मिलती है और सीखने की क्षमता बेहतर होती है। रात के खाने और नाश्ते के बीच करीब 10 से 12 घंटे के अंतराल के कारण रक्त में ग्लूकोज का स्तर कम हो जाता है और नाश्ते को हमेशा अनदेखा करते रहने से बौद्धिक प्रदर्शन पर प्रतिकूल असर पड़ता है।

अध्ययन में कहा गया कि समय के अव्यवस्थित प्रबंधन के कारण किसी अन्य आहार की तुलना में नाश्ते को सबसे अधिक अनदेखा किया जाता है। नाश्ते को अनदेखा करने के पीछे समय की कमी सबसे बड़ा कारण है। इसके अलावा माताओं के पास समय का अभाव या रोजाना एक ही तरह का नाश्ता बनाना भी इसके कारण हैं

मेरा तो ये मानना है, कि आज अगर बच्चो में हम नाश्ता करने की आदत नहीं डाल पा रहे है ,तो कंही न कंही हमारी लाइफ स्टायल ही जिम्मेवार है ,बच्चो का देर रात तक टी वी देखना ,देर तक पार्टी attend करना और देर तक सोना |ऐसे में वो सो कर कब उठेगा और कब स्कूल की तैयारी करते वक्त वो नाश्ता कर पायेगा ? साथ ही साथ मम्मियों से भी मेरी एक गुजारिश है, की बच्चे के सुबह के नाश्ते में कुछ नया करने की सोचे ,उसे जो टिफिन दे ,रोज एक ही तरीके का खाना न दे ,|याद रखिये आपकी थोड़ी सी मेहनत आपके बच्चे की याददाश्त को तेज करने में सहायक होगी |

अगर बच्चा रोज आपसे चिप्स ,नूडल्स की मांग करता है ,तो आप उसे समझाने की प्यार भरी कोशिश करे | आप उसकी माँ है ,वो आपकी बात जरुर मानेगा |बस जरुरत है थोड़े प्यार और धीरज की |बच्चे को खाने के गुण और दोषों के बारे में बताइए ,धीरे धीरे ये सब जंक फ़ूड आप अपने परिवार से दूर करते जाइये और धीरे धीरे आप देखेंगे कि आप के बच्चे ने सुबह का नाश्ता करना शुरु कर दिया है|

Varsha Varwandkar ,Career Psychologist, http://www.aglakadam.com ,Raipur

Comments»

No comments yet — be the first.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: