jump to navigation

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी ( निफ्ट) December 22, 2009

Posted by aglakadam in career guidance and counselling.
Tags: , , , ,
trackback

अगर आप भी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी ( निफ्ट)
में एडमिशन चाहते हैं, तो अभी आपके लिए बेहतर अवसर है।

डेट एलर्ट निफ्ट के 2010 के सत्र के लिए ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज में प्रवेश के लिए फॉर्म निकाले जा चुके हैं। फॉर्म भरने की अंतिम तिथि 9 जनवरी, 2010 है। प्रवेश परीक्षा 21 फरवरी, 2010 को होगी, जबकि सिचुएशन टेस्ट अप्रैल-मई के महीनों में होगा।

कोर्स

बैचलर इन डिजाइन कोर्स के तहत फैशन, लैदर, एसेसरी, टेक्सटाइल, निटवेयर और फैशन कम्यूनिकेशन विषयों में डिग्री हासिल की जा सकती है। इसमें प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी विषय में 10+2 है। बैचलर इन डिजाइन के अलावा निफ्ट से बैचलर ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी इन एपेरल प्रोडक्शन का कोर्स भी संभव है। लेकिन इस कोर्स में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को 10+2 में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और मैथ्स विषयों के साथ पास होना चाहिए। डिजाइन, फैशन मैनेजमेंट और फैशन टेक्नोलॉजी में यहां से मास्टर डिग्री भी हासिल की जा सकती है। इन कोर्सेज में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता संबंधित विषय में बैचलर डिग्री है। निफ्ट से फैशन तकनीक के क्षेत्र में डॉक्टरेट डिग्री भी हासिल की जा सकती है।

एग्जाम पैटर्न

ग्रेजुएट लेवल के कोर्सेज के लिए प्रवेश परीक्षा दो चरणों में ली जाती है। पहले चरण में रिटेन टेस्ट होता है। इसमें जनरल एबिलिटी टेस्ट की परीक्षा होती है। दो घंटे की इस परीक्षा में इंगलिश कॉम्प्रिहेंशन, एनालिटिकल एबिलिटी, कम्यूनिकेशन एबिलिटी के अलावा विज्ञान, गणित, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र आदि से जुडे जनरल नॉलेज और करेंट अफेयर्स से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं।

करेंट अफेयर्स के सवाल देश-विदेश के ताजा हाल, फेमस पर्सनैलिटीज और साल भर में घटने वाली प्रमुख घटनाओं पर आधारित होते हैं। दूसरे चरण में अभ्यर्थी की क्रिएटिविटी और फैशन के प्रति लगाव की परख के लिए सिचुएशन टेस्ट लिया जाता है।

प्रिपरेशन स्ट्रेटेजी

अगर अभ्यर्थी का एकेडेमिक बैकग्राउंड अच्छा रहा है और उसने कोर्स से संबंधित एनसीईआरटी की किताबें अच्छी तरह पढी हैं, तो वह प्रश्नों का उत्तर आसानी से दे सक ता है।

सीएटी यानी क्रिएटिव एबिलिटी टेस्ट के जरिये अभ्यर्थी की ऑब्जर्वेशन पॉवर, डिजाइन करने की काबिलियत और कुछ नया तैयार करने की क्षमताओं को परखा जाता है। कि इस परीक्षा में सबसे अहम बात यह है कि अभ्यर्थी जो भी डिजाइन और चित्र बनाएं, उसके रंगों के सामंजस्य का खास ध्यान रखें।

सिचुएशन टेस्ट में अभ्यर्थी को एक सवाल और उससे जुडा कुछ सामान उपलब्ध कराया जाता है, जिसके जरिये अभ्यर्थी को उस सवाल के आधार पर सामान तैयार करना होता है। टेस्ट के तुरंत बाद एक्सपर्ट पैनल उसे देखता है और अपनी तरफ से मार्किग कर देता है।

निफ्ट की प्रवेश परीक्षा का आयोजन आइमा यानी ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन के जरिये किया जाता है। इसके अलावा निफ्ट में प्रवेश लेने वाले भारत के आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए फीस में 25 से लेकर 75 फीसदी तक की स्कॉलरशिप का प्रावधान है। अधिक जानकारी के लिए http://www.nift.ac.in पर लॉग ऑन कर सकते हैं।

फॉर्म प्राप्त करने की अंतिम तिथि- 5 जनवरी, 2010

फॉर्म भरने की अंतिम तिथि- 9 जनवरी, 2010

प्रवेश परीक्षा- 21 फरवरी

सिचुएशन टेस्ट- अप्रैल व मई
Varsha Varwandkar,Consultant psychologist ,www.aglakadam.com,Raipur

Comments»

No comments yet — be the first.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: