jump to navigation

शिक्षा और रोटी September 18, 2009

Posted by aglakadam in career guidance and counselling.
trackback

September 18, 2009
आप शिक्षा को रोज़गार के साथ जोड़ने की बाते करते है ,तो में बता दू,की शिक्षा ऐसी हो जो रोटी दे सके ,जब हिन्दी के कवि श्री धूमिल जी के अनुसार —-सुनो ! आज में तुम्हे वह सत्य बतलता हू,जिसके आगे हर सच्चाई छोटी है,इस दुनिया में भूखे आदमी का सबसे बड़ा तर्क रोटी है.मतलब शिक्षा ऐसी होनी चाहिए ,जो छात्रो को इतिहास के साथ साथ ,गणित के सूत्रो को भी बताए तो शेयर मार्केट में करियर कै से बनाए यह भी सिखाया जाए तो यह कॉंबिनेशन कैसा रहेगा?-—-वर्षा वरवँड़कर,अगला कदम . कॉम,रायपुर

Comments»

No comments yet — be the first.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: